अंधविश्वास भगाओ

.👳‍♂ *ठग बाबाओं से लुटी जनता*


सात लाख रूपये दीजिये तो *राधे माँ* ( जसबिंदर कौर) आपको गोद में बैठाकर आशीर्वाद देंगी और पन्द्रह लाख रूपये दीजिये तो आप उस *धूर्त ठग राधे माँ* को किसी फाइव स्टार होटल में डिनर के साथ आशीर्वाद ले सकते हैं ! तब भी अंधविश्वासी लोग उसे देवी ही मानते हैं l


*निर्मल बाबा* है जो लाल चटनी और हरी चटनी में भगवान की कृपा दे रहा है ! रात दिन पूज रहा है।


*रामपाल* भक्त हैं जो कबीर को पूर्ण परब्रह्म परमात्मा मानते हैं ! ओर अपने नहाए हुए पानी को अपने भक्तों को पिला कर कृतार्थ करता है।


*ब्रह्मकुमारीमत* वाले हैं जो दादा लेखराज के वचनों को सच्ची गीता बताते हैं और परमात्मा को बिन्दुरुप बताते हैं ! इन्होंने भगवद गीता भी फेल कर दी।


*राधास्वामी* वाले अपने गुरु को ही मालिक परमेश्वर भगवान ईश्वर मानते हैं । वो साक्षात ईश्वर का अवतार है ।


*निरंकारी* है जिनका उद्धार करने वाला बाबा ही कई करोड़ की गाड़ी में ,350 की स्पीड पर भयंकर दुर्घटना में गया औरों के तो पता नही , अपना मिलन परमात्मा से करवा लेता है।पर लोग बाबा की जय बोलने से नही थकते।


*कुछ चाँद मियाँ ऊर्फ (साई  बाबा) को भगवान बनाने पर तुले हैंl ये चाँद मियाँ अपने आप को साई बाबा बताता है।


*जय गुरुदेव वाले जय गुरुदेव को ही परमात्मा घोसित कर देते है।


*आसाराम*, *दाती बाबा, *राम रहीम*,  के भक्त तो और भी महान है सब पोल खुल जाने पर भी सड़को पर भक्त बनकर इनको को ईश्वर मान रात दिन उसके गुण गाते है।


           *कोई विदेशी इसका जिम्मेदार नहीं है*
जिसने अपनी दुकान ज्यादा सजायी वो ही उतना बड़ा परमेश्वर हो गया।
    बाबा लोगों को किसी भगवान पर विश्वास नहीं होता.. बाबा जी Z+ सिक्योरिटी में बैठकर कहते हैं कि," जीवन-मरण ऊपर वाले के हाथ में है "
अंधभक्त श्रद्धा से सुनते हैं, पर सोचते नहीं हैं....


👉 बाबा जी हवाई जह़ाज में उड़ते हैं । सोने से लदे होते हैं ।
दौलत के ढेर पर बैठकर बोलते हैं कि," मोह-माया मिथ्या है, ये सब त्याग दो ".
लेकिन उत्तराधिकारी अपने बेटे को ही बनायेंगे.. 
अंधभक्त श्रद्धा से सुनते हैं, पर सोचते नहीं हैं.....


👉 भक्तों को लगता है कि उनके सारे मसले बाबा जी हल करते हैं,
लेकिन जब बाबा जी मसलों में फंसते हैं, तब बाबा जी बड़े वकीलों की मदद लेते हैं.. 
अंधभक्त बाबा जी के लिये दुखी होते हैं, लेकिन सोचते नहीं हैं.....


👉भक्त बीमार होते हैं.. डॉक्टर से दवा लेते हैं.. 
जब ठीक हो जाते हैं तो कहते हैं, " बाबा जी ने बचा लिया "
पर जब बाबा जी बीमार होते हैं, 
तो बड़े डॉक्टरों से महंगे अस्पतालों में इलाज़ करवाते हैं. 
अंधभक्त उनके ठीक होने की दुआ करते हैं लेकिन सोचते नहीं हैं.....


👉 अंधभक्त अपने बाबा को भगवान समझते हैं...
उनके चमत्कारों की सौ-सौ कहानियां सुनाते हैं. 


👉  *जब बाबा जी किसी अपराध में जेल जाते हैं, तब वे कोई चमत्कार नहीं दिखाते..  तब अंधभक्त बाबा के लिये लड़ते-मरते हैं, लेकिन वे कुछ सोचते नहीं हैं.....*


👉 इन्सान आंखों से अंधा हो तो उसकी बाकी ज्ञान इन्द्रियाँ ज़्यादा काम करने लगती हैं,
लेकिन अंध भक्तों की कोई भी ज्ञान इंद्री काम नहीं करती...
*अतः जागृत बनें,     तार्किक बनें*


    ❗अंध भक्त नही !!!


🙏🙏🙏🌺🙏🙏🙏


          *अंधविश्वास भगाओ*
         आइये। वेदों की शरण में आयें और वैदिक कर्म फल व्यवस्था का स्वाध्याय करके सर्व शक्तिमान एवम् सर्वांतर्यमी  प्रभु पर विश्वासकरें। उसी की स्तुति प्रार्थना उपासना करने योग्य है । मदन आनेजा


Popular posts from this blog

वैदिक धर्म की विशेषताएं 

ब्रह्मचर्य और दिनचर्या

अंधविश्वास : किसी भी जीव की हत्या करना पाप है, किन्तु मक्खी, मच्छर, कीड़े मकोड़े को मारने में कोई पाप नही होता ।