||दुर्मिल सवैया ||

लय में चिर गीत विधान बसा , प्रिय प्रेम वियोग समीर चले!
मधु में नव स्वप्न पराग घुला , करुणा धन नीर दिगंत पले !
पल में मृदु झंकृत राग नया , उलझा रस धार हिमांशु गले !
गुरु सूत्र पुकार रहा उर में, भव बंधन पीर अनंत टले !!


मन मोहित राग अधीर रहा , उर में मकरंद निहार  जरा !
हर दौड़ नवीन उछाह भरी , तन तृप्ति निमित्त प्रयास धरा !
अभिशाप यही उदभ्रांत दशा, निज काम समर्पित स्वप्न भरा !
भटकाव दिगंत निढ़ाल हुआ, गुरु छाँव विशाल विकार हरा !!


Popular posts from this blog

वैदिक धर्म की विशेषताएं 

ब्रह्मचर्य और दिनचर्या

अंधविश्वास : किसी भी जीव की हत्या करना पाप है, किन्तु मक्खी, मच्छर, कीड़े मकोड़े को मारने में कोई पाप नही होता ।